PRESS RELEASE

9वीं न्यूरो कॉन्फ्रेंस: स्ट्रोक के उपचार की नवीन पद्धतियो पर हुआ मंथन

पेसिफिक मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल के पेसिफिक सेन्टर ऑफ न्यूरो साईन्सेस की ओर से दो दिवसीय कांफ्रेंस शुरू हुई।

उदयपुर पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल

उदयपुर पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल के कान नाक गला रोग विभाग में 23 वर्षीय युवक का ओटोस्क्लेरोसिस नामक दुर्लभ बीमारी का ऑपरेशन कर मरीज को इस गंभीर बीमारी से निजात दिलाई। इस सफल उपचार में कान, नाक एवं गला रोग विभाग के विभाग डॉ. पी.सी. जैन, डॉ. राजेन्द्र गोरवाडा, डॉ. शिव कौशिक, प्रकाश आदित्य, डॉ विक्रम एवं अनिल भट्ट की टीम का सहयोग रहा। दर असल नीमच निवासी 23 वर्षीय युवक को पिछले लम्बे समय से सुनाई न देने की समस्या थी।

भीलवाड़ा निवासी 11 वर्षीय बच्चे के हृदय और फेफड़े

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल में भीलवाड़ा निवासी 11 वर्षीय बच्चे के हृदय और फेफड़े की बीच गेंद के आकार की कैंसर की गांठ का सफल ऑपरेशन कर नया जीवन दिया। डॉ. प्रवीण झंवर ने बताया कि सेरेबल पाल्सी, मिर्गी रोग एवं आंखों से कम दिखने की समस्या से पीड़ित बच्चें का ऑपरेशन करना काफी जोखिम भरा था। लेकिन विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम और उच्च स्तरीय सुविधाओं के चलते इस सफल ऑपरेशन को अंजाम दिया जा सका। परिजनों ने चेयरमेन राहुल अग्रवाल, चिकित्सकों एवं स्टाफ को धन्यवाद दिया।

शादी के 21 साल बाद माता-पिता बनने का सुख दिया।

पीएमसीएच आईवीएफ ने चित्तौड़ जिला निवासी दंपती को शादी के 21 साल बाद माता-पिता बनने का सुख दिया। दरअसल 40 वर्षीय दंपती को शादी के 21 साल तक कोई संतान नहीं हुई। कई जगह इलाज में लाखों रुपए खर्च किए, लेकिन निराशा हाथ लगी। पीएमसीएच आईवीएफ की साइंटिफिक डायरेक्टर डॉ. मनीषा वाजपेयी ने बताया कि मरीज की जांच करने पर फैलोपियन ट्यूब अवरुद्ध होने का पता चला। इसके चलते महिला गर्भधारण नहीं कर पा रही थी। डॉ. वाजपेयी ने बताया कि पीएमसीएच आईवीएफ में उपलब्ध विश्वस्तरीय चिकित्सकों की टीम के इलाज से आखिर महिला ने बच्चे को जन्म दिया। परिजनों ने चेयरमैन राहुल अग्रवाल व प्रीति अग्रवाल को धन्यवाद दिया।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के जनरल मेडिसिन विभाग एवं तिरुपति कॉलेज ऑफ नर्सिंग के साझे में विश्व डायबिटीज डे के तहत सप्ताह का शुभारंभ हुआ।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के जनरल मेडिसिन विभाग एवं तिरुपति कॉलेज ऑफ नर्सिंग के साझे में विश्व डायबिटीज डे के तहत सप्ताह का शुभारंभ हुआ। संयोजक डॉ. जगदीश विश्नोई ने बताया कि जागरुकता अभियान का शुभारंभ पीएमसीएच के चेयरमैन राहुल अग्रवाल, सीईओ शरद कोठारी, पीएमयू के वाइस चांसलर डॉ. ए.पी. गुप्ता, प्रिंसिपल एवं कंट्रोलर डॉ. एमएम मंगल, मेडिसिन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. के. आर. शर्मा एवं फैकल्टी ऑफ नर्सिंग के डीन डॉ. के.सी. यादव ने दीप जलाकर किया।

गठिया रोगों में स्टेराॅइड दवाईयों का प्रयोग करने से डाॅयबिटीज का खतरा – प्रोफेसर स्टुअर्ट एच राल्सटन

पेसिफिक मेडिकल काॅलेज एण्ड हाॅस्पिटल के जनरल मेडिसिन विभाग की ओर से विश्व डायबिटीज डे सप्ताह का आयोजन 7 नबम्वर से किया जा रहा है।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में किशोरी के जननांग का पुनर्निर्माण

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में किशोरी के जननांग का पुनर्निर्माण कर सामान्य महिला की तरह जीवन बिताने का मौका दिया। दरअसल 16 साल की किशोरी में मासिक धर्म की अनुपस्थिति का दुर्लभ मामला सामने आया। परिजनों ने कई जगह दिखाया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इसके बाद बिता रही है। पेसिफिक हॉस्पिटल के डॉक्टर्स की टीम ने सर्जरी कर किशोरी के जननांग का पुनर्निर्माण किया

कैंसर विज्ञान पर होगा उदयपुर में राष्ट्रीय सेमीनार

सर जितनी बड़ी बीमारी है लोगों में उससे कहीं ज्यादा इससे जुड़ी गलत धारणाएं और डर हावी है।

पेसेफिक मेडिकल कॉलेज ने किया तेरापंथ युवक परिषद् का धन्यवाद......

रक्तदान में बनाया कीर्तिमान : पेसेफिक मेडिकल कॉलेज ने किया तेरापंथ युवक परिषद् का धन्यवाद

सही जांच और इलाज मिलने पर भविष्य में होने वाली गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है।

सही जांच और इलाज मिल जाए तो भविष्य में होने वाली गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है। ऐसा ही चित्तौड़ निवासी रतनलाल के साथ हुआ। नाजुक स्थिति में रतनलाल को परिजन पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल भीलों का बेदला लेकर आए। मरीज की नाजुक स्थिति को देखते हुए आईसीयू में भर्ती करके इन्टेन्सीविस्ट डॉ. मनिंदर की देख रेख में उपचार शुरू किया। रतनलाल की तत्काल किडनी बायोप्सी कराई और किडनी का विशिष्ट इम्यूनो सप्रेशन शुरू किया।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज के डिपार्टमेंट ऑफ ऑनकोलॉजी एवम तिरुपति कॉलेज ऑफ नर्सिंग के मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग विभाग के संयुक्त तत्वाधान में केंसर के दुष्प्रभावों एवम बढते हुए केसेज को देखते हुए कार्यशाला का आयोजन किया गया

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज के डिपार्टमेंट ऑफ ऑनकोलॉजी एवम तिरुपति कॉलेज ऑफ नर्सिंग के मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग विभाग के संयुक्त तत्वाधान में केंसर के दुष्प्रभावों एवम बढते हुए केसेज को देखते हुए कार्यशाला का आयोजन किया गया

22 दिन के नवजात बच्चे के एच टाइप टीईएफ (ट्रेकियो एसोफैगल फिस्टुला) नामक जटिल बीमारी को सफल सर्जरी

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल, भीलों का बेदला में 22 दिन के नवजात बच्चे के एच टाइप टीईएफ (ट्रेकियो एसोफैगल फिस्टुला) नामक जटिल बीमारी को सफल सर्जरी कर उसे नया जीवनदान दिया। ढाई घण्टे तक चले इस सफल ऑपरेशन को अंजाम दिया बल एवं नवजात शिशु सर्जन डॉ. प्रवीण झवर, ऐनस्थिशिया विभाग के डॉ. प्रकाश औदिच्य, डॉ. समीर गोयल एवं डॉ. आशुतोष की टीम ने दरअसल 22 दिन के नवजात बच्चे को जन्मजात यह समस्या भी जिसके चलमें बच्चे को दूध पिलातें ही बच्चे का कलर नीला पड़ जाता और श्वास लेने में परेशानी के चलते हास्पिटल में भर्ती कराना पड़ता।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में 50 वर्षीय कुइया राम.......

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में 50 वर्षीय कुइया राम के मूत्राशय से 7 सेंटीमीटर का स्टोन निकालकर उसे दर्द से निजात दिलाई। इस सफल ऑपरेशन में सर्जन डॉ. गुरुदत्त, डॉ. कोनार्क ठक्कर, डॉ. जोयश, एनेस्थेटिस्ट डॉ. स्वाति शर्मा, चंद्रमोहन शर्मा, धनश्याम एवं कैलाश की टीम का सहयोग रहा।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में तीव्र अग्नाशय शोथ.......

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में तीव्र अग्नाशय शोथ (एक्यूट नेनोटाइजिंग पैंक्रियाटाइटिस) की समस्या से ग्रसित मरीज का सफल ऑपरेशन कर मरीज को नया जीवन दिया। सफल ऑपरेशन में गेस्ट्रो. सर्जन डॉ. विकेश जोशी, निश्चेतना . विभाग के डॉ. प्रकाश औदीच्य, डॉ. केजी, डॉ. पन्थ एवं अनिल भट्ट की टीम का सहयोग रहा। .

12 वर्षीय बच्चे का एन्यूरिज्मल बोन सिस्ट नामक बीमारी का ऑपरेशन किया गया ।.......

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल बेदला में 12 वर्षीय बच्चे का एन्यूरिज्मल बोन सिस्ट नामक बीमारी का ऑपरेशन किया गया । बताया गया कि एक लाख में से किसी एक को यह बीमारी होती है। आर्थोपेडिक सर्जन डॉ. आशीष बत्रा, डॉ. प्रकाश औदिच्य, डॉ. विक्रम, डॉ. हर्ष, डॉ. अभिलाष, डॉ. देवराजन, डॉ. राहुल एवं सुभाष की टीम ने ऑपरेशन को सफल बनाया। .

पेसिफिक मेडिकल यूनिवर्सिटी के संघठक तिरुपति नर्सिंग कॉलेज के द्वारा तम्बाकू मुक्त समाज की मुहिम चलाई जा रही है, मुहिम की शुरुआत आज पेसिफिक मेडिकल हॉस्पिटल में एक जनजागरूकता रैली एवम हेल्थ एजुकेशन के माध्यम से हुई।

पेसिफिक मेडिकल यूनिवर्सिटी के संघठक तिरुपति नर्सिंग कॉलेज के द्वारा तम्बाकू मुक्त समाज की मुहिम चलाई जा रही है, मुहिम की शुरुआत आज पेसिफिक मेडिकल हॉस्पिटल में एक जनजागरूकता रैली एवम हेल्थ एजुकेशन के माध्यम से हुई।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल में इररिड्यूसेबल हर्निया से परेशान 135 किलो वजनी महिला का सफल ऑपरेशन किया।.......

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल में इररिड्यूसेबल हर्निया से परेशान 135 किलो वजनी महिला का सफल ऑपरेशन किया। डूंगरपुर की 53 साल की लक्ष्मी पिछले 23 सालों से इररिड्यूसेबल हर्निया से परेशान थी। पीएमसीएच में मिनिमल इन्वेसिव सर्जन डॉ. विश्वास जौहरी ने बताया कि मरीज का अधिक वजन होने से मरीज की सर्जरी करना बहुत ही चुनौतीपूर्ण था। मरीज का लैप्रोस्कोपिक आईपी ओएम प्लस नामक सर्जरी कर इस बीमारी का इलाज किया।

कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से जूझ रही 55 वर्षीय महिला को पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल भीलों का बेदला से इलाज के बाद बीमारी से छुटकारा मिल गया है। .......

कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से जूझ रही 55 वर्षीय महिला को पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल भीलों का बेदला से इलाज के बाद बीमारी से छुटकारा मिल गया है। मरीज को #bloodcancer का एक स्वरूप लिम्फोमा डाइग्नोज हुआ था। आंख में लिम्फोमा होने के कारण मरीज को आंख से दिखना बंद हो गया था। लेकिन चिकित्सक मनोज महाजन के सटीक उपचार से महिला पूरी तरह से ठीक हो गई है। पूरा इलाज भामाशाह योजना के तहत किया गया।

भीलों का बेदला प्रतापपुरा स्थित पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के एमबीबीएस छात्रों के नए अकादमिक सत्र 2021-22 का आगाज मंगलवार को हुआ। .......

भीलों का बेदला प्रतापपुरा स्थित पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के एमबीबीएस छात्रों के नए अकादमिक सत्र 2021-22 का आगाज मंगलवार को हुआ।

विश्व महिला दिवस (सप्ताह) का आगाज..........

उदयपुर,6 मार्च। पेसिफिक मेडिकल यूनिवर्सिटी के संघटक तिरुपति कॉलेज ऑफ नर्सिंग एवं पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के संयुक्त तत्वाधान में ग्राम पंचायत मेहरों का गुड़ा, अंबेरी में आज विश्व महिला दिवस सप्ताह का शुभारंभ किया गया।

पेसिफिक मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल के आईवीएफ विभाग.........

पेसिफिक मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल के आईवीएफ विभाग की ओर से आईयूआई (IUI) पर एक दिवसीय वर्कशाॅप का आयोजन किया गया। वर्कशॉप का उद्घाटन पीएमसीएच के चेयरमेन राहूल अग्रवाल,सीईओ शरद कोठारी,पेसिफिक मेडिकल विश्व विद्यालय के वाइस चाॅसलर डाॅ.ए.पी.गुप्ता,पीएमसीएच के प्रिसिंपल डाॅ.एम.एम.मंगल,स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की डाॅ.राजरानी शर्मा,निःसंतानता रोग विषेशज्ञ डाॅ.परिक्षित टाॅक एवं पेसिफिक आईवीएफ की साईन्टिफिक डाॅयरेक्टर डाॅ.मनीशा वाजपेयी ने माॅ सरस्वती की प्रतिमा पर दीप प्रज्जवलन करके किया। इस वर्कशाॅप में 70 से ज्यादा निःसंतानता रोग विषेशज्ञों ने निःसंतानता के इलाज की नई विधाओं पर अपने विचार रखें।

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल के पेसिफिक सेन्टर ऑफ न्यूरो साइंसेस में ब्रेन हेमरेज मरीज की धमनी में दक्षिणी राजस्थान की पहली नेक्सटेन्ट डिवाइस लगाकर जीवनदान दिया

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल के पेसिफिक सेन्टर ऑफ न्यूरो साइंसेस में ब्रेन हेमरेज मरीज की धमनी में दक्षिणी राजस्थान की पहली नेक्सटेन्ट डिवाइस लगाकर जीवनदान दिया। मरीज के नेक्सटेन्ट डिवाइस प्लेसमेंट में मस्तिष्क एवं लकवा रोग विशेषज्ञ डॉ. अतुलाभ वाजपेयी, डॉ. रमाकांत, डॉ. अखिलेश का सहयोग रहा। 62 साल की महिला को मस्तिष्क में तेज दर्द, उल्टी, घबराहट के चलते परिजन पेसिफिक सेन्टर ऑफ न्यूरो साइंसेस लाए थे। डॉ. वाजपेयी को दिखाया तो जांच में रोगी के मस्तिष्क में ब्रेन हेमरेज पाया गया। डॉ. वाजपेयी ने स्पष्ट किया कि उपचार की नवीनतम तकनीक नेक्सटेन्ट डिवाइस से गुब्बारे को बंद किया।

8 वर्षीय बच्चे ने खेल खेल में खिलौने में लगा एलईडी बल्ब.....

पाली जिले की बाली तहसील के कोटवालिया गांव के एक 8 वर्षीय बच्चे ने खेल खेल में खिलौने में लगा एलईडी बल्ब को निगल लिया। यह बल्ब बच्चे की सांस नली में अटक गया जिससे उसे लगातार खांसी और सीने में दर्द होने लगा। पीएमसीएच में कान, नाक एवं गला रोग विशेषज्ञ डॉ. शिव कौशिक ने जांच के बाद बताया कि बच्चे के दाएं फेफड़े में एलईडी बल्ब के फंसने से फेफड़ा कार्य नहीं कर रहा है। बच्चे का तुरन्त ऑपरेशन जरूरी था। चिकित्सकों की टीम ने दूरबीन से सफलतापूर्वक ऑपरेशन किया गया। इसमें कान, नाक एवं गला रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. पी. सी. जैन, डॉ. राजेन्द्र गोरवाड़ा, डॉ. शिव कौशिक, डॉ. प्रकाश औदित्य, डॉ. विक्रम एवं अनिल भट्ट की टीम का सहयोग रहा।

कटे हुए हाथ के पंजे को पुन जोड़कर नया जीवन दिया।....

पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एण्ड हाॅस्पिटल बेदला के बर्न एवं प्लास्टिक सर्जरी विभाग के चिकित्सक डाॅ.गुरूभूषण एवं उनकी टीम ने युवक के कटे हुए हाथ के पंजे को पुन जोड़कर नया जीवन दिया।

2 साल से ना बोल पाने की समस्या से परेशान 56 साल की महिला

2 साल से ना बोल पाने की समस्या से परेशान 56 साल की महिला का पेसिफिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में सफल ऑपरेशन किया गया। कान्हा कम गला रोग विशेषज्ञ डॉ. शिव कौशिक ने बताया कि हेमरेजिक पॉलिप के इस बीमारी का आधुनिक तरीके से ऑपरेशन किया गया। परिजनों ने पीएमसीएच के चेयरमैन राहुल अग्रवाल और सभी चिकित्सकों का आभार जताया।

<